Poetry
© Yang Lian 2006

Five Poems

Translated by: 
Apurva Narain
 

 

 

 

 

 

 

 

(Scroll down for the original text in Hindi)

Contemplating a Sketch of Me 

Made by a Chinese Poet-friend

 

On a sketch by Yang Lian, Rome 2006 

 

I did not know that 

I was being drawn 

 

I was hearing something 

seeing something 

thinking something 

 

At the same time 

through the measure of lines 

someone was seeing, hearing and thinking me too 

 

There is a levity in lines 

playing with the paper’s emptiness 

 

When the colour of imagination fills it 

the picture changes 

into the rough and rugged travels 

of a nameless traveller 

 

Perhaps I was wandering, 

connecting countries, 

on some silk road 

 

 

Horsemen

 

One wishes to come out 

of that first school book 

on whose cover even today 

an ancient epoch 

with a bared sword in hand 

is haughtily mounted on horseback 

 

One wishes to enter 

some such century 

for which we have been

 waiting for centuries 

 

In the streets and alleys 

houses are lined up facing each other 

like books in libraries 

 

Daily, at daybreak 

the door of each house 

opens like a new book

 

And from it comes out 

a man of today 

But mounted on horseback 

just like before 

he runs his horse around 

the whole long day 

 

 

Angkor Wat

 

down the banyan tree 

roots descend silently 

disquiet souls 

 

in the vast forest of temples 

devotee roots 

enter with folded hands 

 

incantations echo in the rustle of trees 

distant supplications 

 

temples sway 

in the slow air 

branches become the sculpture of rocks 

rocks become the body of branches 

both one with each other in sempiternity 

in a meditative trance for centuries 

beneath the banyan tree 

Buddha in contemplation 

 

against the reality of a Pol Pot 

a surreality 

of supreme compassion 

that this artful forest of tranquillity 

begets 

 

 

The Arrival of the Barbarians

 

After Cavafy’s ‘Waiting for the barbarians’ 

 

It is no use worrying now. 

They have arrived. Once again 

they have conquered us. 

 

Their officers, generals and soldiers 

advisors, henchmen and jesters 

their lackeys and their courtiers 

soothsayers, agents and flatterers 

 

They are there all around us 

everywhere. All of them 

have come back again. 

 

They have taken over all 

the usual and the special 

places in the city. 

 

Their hordes are impatient now 

for a free hand to despoil. 

 

 

Postscript: So Close to Me      

 

Land’s End, Nainital          

 

There is little time, yet     

I wish to live with you      

for a few days         

and so attach a sub-world           

to this narrative of life     

 

Like a rare interlude         

suddenly remembered, postscript . . . 

 

In the August days             

a sojourn in the hills,        

in the hushed rain 

by a half-forgotten lake   

in some nameless retreat            

I wish to spend       

the remaining days of this ending epoch,       

to bathe in your musky fragrance        

to live in fascination         

of something intoxicating 

and even more thrilling 

than the first love . . . 

Why has this tiny patch of sunlight 

that was about to leave the room 

now suddenly moved 

so close to me

             


एक चीनी कविमित्र द्वारा बनाए 

अपने एक रेखाचित्र को सोचते हुए

 

यह मेरे एक चीनी कविमित्र का 

झटपट बनाया हुआ

         रेखाचित्र है

 

मुझे नहीं मालूम था कि मैं

रेखांकित किया जा रहा हूँ 

 

        मैं कुछ सुन रहा था

              कुछ देख रहा था

                     कुछ सोच रहा था

 

उसी समय में
रेखाओं के माध्यम से 

मुझे भी कोई

        देख, सुन और सोच रहा था।

रेखाओं में एक कौतुक है

जिससे एक काग़ज़ी व्योम खेल रहा है

 

उसमें कल्पना का रंग भरते ही

चित्र बदल जाता है

किसी अनाम यात्री की 

ऊबड़-खाबड़ यात्राओं में।

 

शायद मैं विभिन्न देशों को जोड़ने वाले

किसी‘रेशम-मार्ग’ पर भटक रहा था

 

 

घुड़सवार

 

निकलकर बाहर आना चाहता हूँ

उस पहली पाठ्‌य-पुस्तक से

जिसके मुखपृष्ठ पर

एक पुराना ज़माना

हाथ में लिए नंगी तलवार 

एक घोड़े पर मुश्तैदी से सवार है 

अभी तक

 

प्रवेश करना चाहता हूँ

किसी ऐसी सदी में

जिसकी सदियों से प्रतीक्षा है

 

सड़कों और गलियों में

आमने-सामने क़तार से लगे मकान 

जैसे किसी लाइब्रेरी में लगीं किताबें

 

सुबह-सुबह हर मकान का दरवाज़ा

खुलता जैसे खुलती है नयी किताब

 

निकलता है उसमें से 

आज का एक आदमी

 

लेकिन उसी तरह घोड़े पर सवार

दिन भर अपना घोड़ा दौड़ाता 

 

 

अंकोर वाट 

 

वट वृक्ष से नीचे

ख़ामोश उतरती हैं जड़ें

विह्वल आत्माएँ

 

मन्दिरों के महावन में

प्रवेश करती हैं

हाथ जोड़े प्रार्थी जड़ें

 

पत्तियों के मर्मर में गूँजती हैं दीक्षाएँ

सुदूर प्रार्थनाएँ

 

मंद हवाओं में झूमते हैं मन्दिर

शिलाओं का शिल्प हो गयी हैं शाखाएँ

शाखाओं की कोमलता हो गयी हैं शिलाएँ

दोनों एक परमत्व में तन्मय

सदियों से समाधिस्थ

वट वृक्ष तले

ध्यानमग्न बोधिसत्त्व

 

किसी पोल पोट के नृशंस यथार्थ के विरुद्ध

कलाओं का शान्तिवन

रचता 

महाकरुणा का अतियथार्थ

 

 

बर्बरों का आगमन

कवाफ़ी की कविता‘बर्बरों की प्रतीक्षा’से संदर्भ लेकर

 

अब किसी भी बात को लेकर

चिन्ता करना व्यर्थ है। वे आ गये हैं। उन्होंने

फिर एक बार हमें जीत लिया है।

 

उनके अफ़सर, सिपाही और कोतवाल– 

उनके सलाहकार, मसख़रे और नक़्क़ाल– 

उनके दरबारी और उनके नमकहलाल– 

उनके मुसाहिब, ख़ुशामदी और दलाल– 

               चारों तरफ़ 

               छा गये हैं। वे सब के सब

               वापस आ गये हैं।

शहर की सभी ख़ास और आम जगहों पर उनका कब्ज़ा है।

उनके जत्थे अब

लूट की खुली छूट के लिए बेताब हैं।

 

 

मेरे इतने पास

 

समय बहुत कम है फिर भी 

कुछ दिनों जी कर तुम्हारे साथ 

जीवन-प्रसंग में जोड़ना चाहता हूँ 

एक उप-संसार,

जैसे अचानक याद आ जाए 

एक अनुभव पुनश्च:

 

गर्मी के दिनों में

पहाड़ों की सैर

रिमझिम वर्षा में

किसी भूली-बिसरी झील के किनारे

किसी अज्ञात डाक-बंगले में

बिताना चाहता हूँ

एक समाप्तक युग की बाक़ी छुट्टियाँ।

कस्तूरी-सी उठती देह-गन्ध से नहाना चाहता हूँ,

जीना चाहता हूँ पूरी आसक्ति से

इतना मादक कुछ

जो जीवन में पहले-पहले प्यार से भी

कहीं अधिक रोमांचक हो...

 

अरे, यह ज़रा-सी धूप

कमरे से बाहर जाते जाते

अचानक क्यों

मेरे इतने पास सरक आई है?

 

More Poetry

Please Register or Login

Register now for full access to News and Events, Web Exclusives, Blogs and Comments.

If you've already registered, please login.